3 हिंदी कहानियां ,चतुर कछुआ, कुत्ते का लालच,छुपा हुआ खजाना

1. चतुर कछुआ

भूखी लोमड़ी के हाथ एक बार एक कछुआ आ लगा । लेकिन कछुए की मजबूत ढाल होने की वजह से लोमड़ी उसे खा नहीं पा रही थी । कछुए को भी अपनी जान की पड़ी थी , वह बोला , ” क्यों नहीं तुम कुछ देर के लिए मुझे पानी में डाल देती , ताकि मेरी खाल नरम पड़ जाए । ‘ लोमड़ी ने मन – ही – मन कहा , ‘ वाह ! शिकार खुद बता रहा है कि उसे कैसे खाऊं । कह भी ठीक रहा है । ‘ वह कछुए को एक नदी के किनारे ले गई और उसे पानी में छोड़ दिया । पानी में धीरे – धीरे तैरता हुआ कछुआ नदी के बीच पहुंच गया और वहीं से हंसकर बोला , ” मुझे उम्मीद है , तुम्हारी चतुराई की बातें अब लोग नहीं कहेंगे । बोलो … तुम चतुर हो या मैं ? ”

शिक्षा पद,

दोस्तों किसी संकट में फंसे जान किस तरह बचाया जाता है । उस समय आप पर निर्भर करती हैं।

2. कुत्ते का लालच

एक बार एक कुत्ता मुंह में हड्डी दबाए किसी ऐसे स्थान की खोज में जा रहा था , जहां उसे तंग करने वाला कोई न हो और वह आराम से बैठकर हड्डी का मजा ले सके । तभी उसके रास्ते में एक छोटी नदी आ गई , जिसे वह पुल से पार करने लगा । तभी उसे न जाने क्या सूझी कि अचानक पुल से नीचे झांकने लगा । तब नीचे नदी के पानी में उसे अपना ही अक्स दिखाई दिया ।

लेकिन उस कुत्ते ने सोचा कि पानी में कोई दूसरा कुत्ता है , जिसके मुंह में भी हड्डी दबी है । बस , लालची कुत्ते ने आगे – पीछे सोचे बिना नदी में छलांग लगा दी ताकि उस कुत्ते से भी हड्डी का टुकड़ा छीन सके । नदी में कूदने के बाद कुछ देर तो उसने हड्डी मुंह में दबाए रखी । हकीकत क्या है , वह जान चुका था । कुछ ही क्षण बाद उसे सांस लेने के लिए मुंह खोलना ही पड़ा और जैसे ही उसका मुंह खुला , हड्डी पानी में गिर गई । अपना मुंह लेकर वह कुत्ता किसी तरह नदी से बाहर निकला और अपने किए पर पछताने लगा । पूरी के चक्कर में आधी से भी हाथ जो धो बैठा था बेचारा ।

3. छुपा हुआ खजाना

एक किसान को जब लगा कि अब वह नहीं बचेगा तो उसने अपने लड़कों को बुलाकर कहा , ” मैं तुम्हें सदा के लिए छोड़कर जा रहा हूं । लेकिन मरने से पहले मैं तुम लोगों को यह बताना चाहता हूं कि कुछ गहने मैंने अंगूरों के खेत में दबा छोड़े हैं । तुम उन्हें तलाश कर निकाल लेना । ” कुछ ही दिनों बाद किसान मर गया ।

तब उसके लड़कों ने सोचा क्यों न वह दबा खजाना निकाल लिया जाए । फिर क्या था … उन्होंने अंगूर का खेत अच्छी तरह खोद डाला । लेकिन तब उन्हें बहुत निराशा हुई , जब उन्हें वहां खजाना तो दूर … खोटा सिक्का भी न मिला । चूंकि खेत अच्छी तरह खुद चुका था , अत : फसल भी बेहद अच्छी हुई और आमदनी भी । तब उनकी समझ में आया कि उनका पिता किस गड़े हुए खजाने की बात कर रहा था ।

• नाई और भगवान बहुत एक अच्छी कहानी,Barber and god very good story

यदि आपके पास कोई हिंदी कहानी या आपकी Motivational सोच जो आप शेयर करना चाहते हैं जो आपको लगता है कि इसे शेयर करना चाहिए। तो इस Website पर आप अपनी एक फोटो के साथ शेयर कर सकते हैं। E-mail करें। id है- ekahaniyan1234@gmail.com पसंद आने पर आपके नाम और आपकी फोटो के साथ प्रकाशित की जाएगी।

धन्यवाद

Educationhindime Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!