वो सुनो जो किसी ने नहीं कहा हों, जेन मास्टर की कहानी

जेन मास्टर की कहानी;

बहुत समय पहले की बात है . चीन के एक राजा ने अपने बेटे को अच्छा शासक बनाने के लिए एक जैन मास्टर के पास भेजा .

जैन मास्टर ने कुछ दिन अपने साथ रखने के बाद राजकुमार को एक साल के लिए जंगल में अकेले रहने के लिए भेज दिया .

जब राजकुमार जंगल से लौटा तो जैन मास्टर ने पूछा , बताओ तुमने जंगल में क्या सुना ?

तो राजकुमार ने कहा ” मैंने कोयली की कू-कु कि आवाज सुनी , नदियों की कल – कल कि आवाज सुनी , पत्तियों की झनकार सुनी , मधुमक्खियों की गुनगुनाहट सुनी और मैंने हवा की सन-सनी सुनी … राजकुमार अपना अनुभव सुनाता चला गया . जब राजकुमार ने अपनी पूरी बात कर ली तब जैन मास्टर बोले , अच्छा है , अब तुम एक बार फिर जंगल जाओ और जब तक तुम्हे कुछ नयी आवाजें ना मुनाई दें ।तब तक मत लौटना .

एक साल जंगल में बिताने के बाद राजकुमार अपने राज्य को लौटना चाहता था , पर मास्टर की बात को टाल भी नहीं सकता था , इसलिए वह बेमन ही जंगल की ओर बढ़ चला . कई दिन गुजर गए पर राजकुमार को कोई नयी आवाज़ नहीं सुनाई दी .

यह भी पढ़ें 👉महात्मा बुद्ध की सीख आप क्या लेना पसंद करेंगे ? उदासी या मुस्कान

वह परेशान हो उठा , उसने ठान लिया कि अब वह आवाज़ को बड़े ही ध्यान से सुनेगा ! फिर एक सुबह उसे कुछ अनजानी सी आवाजें हल्की – हल्की सुनाई देने लगी . इस घटना के कुछ बाद वह जैन मास्टर के पास वापस लौटा और बोला , पहले मुझे वही आवाजें सुनाई दी जो पहले देती थीं , लेकिन एक दिन जब मैंने बहुत ध्यान से सुना तो मुझे वो सुनाई देने लगा जो पहले कभी नहीं सुनाई दिया था.!

मुझे कलियों के खिलने की आवाज सुनाई देने लगी , मुझे धरती पर पड़ती सूर्य की किरणों , तितलियों के गीत , और घास घाटा सुबह की ओस पीने की ध्वनियाँ सुनाई देने लगी . यह सुनकर जैन मास्टर खुश हो गए और मुस्कुराकर बोले , अनसुने को सुनने की क्षमता होना एक अच्छी बात की निशानी है . क्योंकि जब कोई शासक अपने लोगों के दिल की बात सुनना सीख लेता है , बिना उनके बोले , उनकी भावनाओं को समझ लेता है , जो दर्द बयाँ नहीं किया गया हो उसे समझ लेता है .

अपने प्रजा की अनकही बातें या शिकायतों को सुन लेता है , केवल वही अपनी लोगों का विश्वास जीत सकता है , कुछ गलत होने पर उसे समझ या नासमझ सकता है और अपने नागरिकों की वास्तविक आवश्यकताओं को पूरी कर सकता है . ”

मित्रों, अगर हमें अपनी फील्ड का लीडर बनना है तो हमें भी वो सुनना सीखना चाहिए जो नहीं कहा गया है . यानी हमें उस राजकुमार की तरह बिलकुल अलर्ट हो कर अपना काम करना चाहिए और अपने साथ काम करने वालों की जरूरतों और भावनाओं का ख्याल रखना चाहिए। तभी आप एक फील्ड का लीडर बन सकते हैं

• Motivational, Hindi Shayari

यदि आपके पास कोई हिंदी कहानी या आपकी Motivational सोच जो आप शेयर करना चाहते हैं जो आपको लगता है कि इसे शेयर करना चाहिए। तो इस Website पर आप अपनी एक फोटो के साथ शेयर कर सकते हैं। E-mail करें। id है- ekahaniyan1234@gmail.com पसंद आने पर आपके नाम और आपकी फोटो के साथ प्रकाशित की जाएगी।

धन्यवाद

Educationhindime Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!